Monday, 14 September 2015

हिन्दी की कलम से


नमस्कार | मैं हिन्दी हूँ | क्या आपको स्मरण है मैं आपकी राज भाषा हूँ ? कदाचित यह स्मरण ना हो तो विचार कीजिये, आप विद्यालय में एक विषय के रुप में मेरा अध्ययन किया करते थे|  हाँ! मैं वही हिन्दी हूँ |

आज मेरा जन्मदिन मनाया जाता है| हालाँकि मेरा जन्म सदियों पहले आप ही के देश में हुआ था, आज तो औपचारिक जन्मदिन है | देश से याद आया, आपको मेरी याद तब जरूर आती होगी जब आप विदेश जाते हैं| वहाँ अनेक विदेशी भाषी लोगो के बीच जब एक भी हिन्दी भाषी मिले तो बड़ा सुकून मिलता होगा ना  |  वहां मेरी सहेली अंग्रेज़ी रहती है, जिसे आजकल सभी बहुत पसंद करते हैं | मैं तो केवल शासकीय पृष्ठों तक ही सीमित रह गयी हूँ | मेरी सहेली अंग्रेज़ी सभी के मन को भाने लगी है | चाहे टूटी फूटी ही सही, किन्तु हर कोई उसे बोलने में गर्व का अनुभव करने लगा है, और मुझ पर शर्म या हँसी आती है | 


आजकल मुझ पर राजनीति भी की जा रही है | कहते हैं मुझे विश्व भाषा बनाएँगे | यह ज्ञात हुआ तो मैं अत्यन्त हर्षित हो उठी |

कभी कभी तो आप मुझे अन्य बोलियों एवं भाषाओं के साथ मिश्रित कर के बोलते है और स्वयं को भी ज्ञात नहीं होता | काव्य और मधुर गीत कि रचना आजकल कम ही होती है | मेरे संग उर्दू, फ़ारसी, अंग्रेज़ी, यहाँ तक कि प्रांतिय भाषाओं को भी मिला कर नए गीत अवश्य बनाये जाते हैं | किन्तु मैं उफ् तक नहीं करती | 

वैसे तो आप भी कहां ग़लत है | आजकल कौन ट्रेन को लौहपथगामिनी कहता है, कौन बाथरूम को शौचालय कह कर हँसी का पात्र बनता है | क्यूँ ना विचारों के आदान प्रदान के स्थान पर हम "बस चैटिंग" ही कर ले | इसके लिए तो "अच्छा", "ठीक है", "चलेगा" जैसे शब्द ही ठीक है| वैसे भी बंदर क्या जाने अदरक का स्वाद |


मेरा एक तुच्छ निवेदन है, प्राथमिकता आप प्राय: अभिव्यक्ति के उचित माध्यम को ही दें, किन्तु यथा संभव मुझसे मित्रता बनाये रखें तो मेरा भी सम्मान बना रहेगा | हो सके तो अगले वर्ष भेंट होगी, अब मैं चलती हूँ |
Click here to read a similar post- What !? You Don't Know Hindi 

(Disclaimer: This post does not intend to harm, defame, or hurt the sentiments of any person, gender, religion, political party, news channel, religious belief, god or to whomsoever it may concern. I sincerely apologize in advance if it is so.)


3 comments:

  1. दिनेश कुमार14 September 2016 at 22:07

    उम्दा पंक्तिया !

    ReplyDelete
  2. उचित कहा महोदया जी

    ReplyDelete