Sunday, 19 January 2014

जहाँ हर सिर झुक...

जहाँ हर सिर झुक जाएँ वही मन्दिर है,
जहाँ हर नदी मिल जाएँ वही समंदर है,
जीवन में युद्ध तो बहुत है,
मगर जो हर युद्ध जीत जाएँ वो ही सिकंदर है!


0 comments:

Post a Comment