Sunday, 12 October 2014

लफ्ज़-ओ-अल्फाज़


कुछ खयाल और कुछ हक़ीक़त मिलते हैं जमाने में,
हम बयान करते हैं उन्हें अपने रह-ओ-रस्म से अफसाने में,

ग़ुल-ए-बाज़ार में महकता है हर इक गुलाब जैसे,
शाम-ओ-सुबह चलती है हमारी ये कलम वैसे,

नज़्म-ओ-मज़मून या कभी कभार साज़-ओ-तराने में,
उम्मीद है निगार हो इस मुसंफा के ज़खीरा-ए-अल्फाज़ में,

मुख्तलिफ ज़बान में लिखने कि आज़माइश करते हैं,
रहमत हो ख़ुदा कि तो पेश करते रहेंगे नई मोसिकि कयी बार ||


अपने  रह-ओ-रस्म - my way, ग़ुल-ए-बाज़ार - market of roses, नज़्म - poetry, मज़मून - articleनिगार - beautiful, मुसंफा - writer, ज़खीरा-  storage, मुख्तलिफ - various, ज़बान - languages, आज़माइश - trial, मोसिकि - composition



0 comments:

Post a Comment