Thursday, 30 October 2014

लम्हा

ये लम्हा भी यूँ ही बीत जायेगा,
अगला लम्हा भी कौनसा साथ निभायेगा,
भर लो हर लम्हा अपनी बाहों में,
क्या पता, कौनसा लम्हा आखरी कहलायेगा ||

1 comment: