Monday, 17 April 2017

स्याही


मुद्दतों में उठायी क़लम हाथों में, देख कागज़-ए-ख़ाली हम खो गए,
लफ़्ज़ों के आईने में देख ख़ुदा को, ख़ुद ही की मौसीक़ी में मशगूल हो गए |

मन में तराशा बिखरे अल्फाज़ो को, कांटे भी फूल हो गए,
एक बूंद स्याही गिरी दवात से, छिपे सारे राज़ गुफ़्तगू हो गए |

0 comments:

Post a Comment