Friday, 15 January 2016

कागज़ अपनी क़िस्मत से उड़ता है लेकिन पतंग अपनी काबिलियत से। इसलिए क़िस्मत साथ दे ना दे काबिलियत ज़रूर साथ देती है।
Source-Internet

Happy Makar Sankranti :)


0 comments:

Post a Comment